Latest

6/recent/ticker-posts

Welcome To Munger News,Munger News Today | Munger News Hindi, (MUNGERNEWS.IN)

मुंगेर चंडी स्थान | Chandika Asthan Temple Of Munger

मुंगेर चंडी स्थान | Chandika Asthan Temple Of Munger

मुंगेर चंडी स्थान | Chandika Asthan Temple Of Munger
श्मशान चंडी या कहें तो चंडिका स्थान 52 शक्तिपीठों में से एक शक्तिपीठ है। माना जाता है कि विष्णु द्वारा सती की मृत देह को खंडित करने के बाद यहां देवी सती की बाईं आंख गिरी थी। यह स्थल बिहार के मुंगेर जिला मुख्यालय से करीब चार किलोमीटर दूर है। गंगा किनारे स्थित इस मंदिर के पूर्व और पश्चिम में श्मशान है।
यह मंदिर नेत्र व्याधियाँ दूर करने के लिए विख्यात है। मान्यता है कि यहाँ से प्राप्त विशेष काजल को आंखों में लगाने से हर समस्या का अंत होता है।

नवरात्री में बहुत सारे साधक तंत्र सिद्धियों को अंजाम देने यहां आते हैं। नवरात्र में सुबह तीन बजे से पूजन आरंभ होता है और संध्या में श्रृंगार पूजन किया जाता है। अष्टमी के दिन तो खास पूजा में भाग लेने के लिए बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं का जमावड़ा लगता है। मान्यता है इस दिन मां के दरबार में हाजिरी लगाने से सभी इच्छाएं पूरी होती हैं। मंदिर परिसर में काल भैरव, शिव परिवार और बहुत सारे हिंदू देवी- देवताओं के मंदिर हैं।

मंदिर से जुड़े खास लोगों ने बातचीत के दौरान बताया गया कि, मंदिर का कोई प्रामाणिक इतिहास नहीं है, फिर भी बहुत सारी कथाएं विख्यात हैं। कहा जाता है जब अपनी अर्धांगिनी देवी सती के जले हुए शरीर को लेकर भगवान शिव भटक रहे थे, तब उनकी बाईं आंख यहां गिरी थी।

महाभारत काल से भी इस मंदिर को जोड़ा जाता है। कहते हैं कुंती पुत्र कर्ण मां चंडिका के भक्त थे। वह हर रोज़ मां के सामने खौलते हुए तेल की कड़ाही में कूदकर अपनी जान देते, मां प्रसन्न होकर उन्हें जीवन दान देती साथ में सवा मन सोना। कर्ण सारा सोना मुंगेर के कर्ण चौराहे पर ले जाकर बांट देते।
मुंगेर चंडी स्थान | Chandika Asthan Temple Of Munger
जब उज्जैन के राजा विक्रमादित्य के कानों तक यह बात पहुंची, तो उन्होंने अंग पहुंचकर सारा दृश्य अपनी आंखों से देखा। एक दिन वह कर्ण से पहले मंदिर गए ब्रह्म मुहूर्त में गंगा स्नान कर स्वयं खौलते हुए तेल की कड़ाही में कूद गए। मां ने उन्हें जीवित कर दिया। वह तीन बार कड़ाही में कूदे और तीन बार मां ने उन्हें जीवनदान दिया। जब वह चौथी बार कूदने लगे तो मां ने उन्हें रोक दिया और मनचाहा वरदान मांगने को कहा। राजा विक्रमादित्य ने मां से सोना देने वाला थैला और अमृत कलश मांग लिया।

मां ने भक्त की इच्छा पूरी करने के बाद कड़ाही को उलटा दिया और स्वयं उसके अंदर अंतर्ध्यान हो गई। आज भी मंदिर में कड़ाही उलटी हुई है। उसके अंदर मां की उपासना होती है। मंदिर में पूजन से पहले विक्रमादित्य का नाम लिया जाता है, फिर मां चंडिका का।

मुंगेर के पूर्वोत्तर कोने, चंडी स्थान, मुंगेर शहर से सिर्फ 2 किलोमीटर दूर है। एक सिद्धिपति होने के नाते चंडी स्थान को सबसे पवित्त्र मंदिरों में से एक माना जाता है, जो गौहाटी के निकट कमक्ति मंदिर के रूप में महत्वपूर्ण है। पौराणिक कहानियां कहती हैं कि यह भगवान शिव के गुस्से से दुनिया को बचाने के लिए था, क्योंकि उसने सती लाश को ले लिया और “तंद्रा मुद्रा” में नाचने लगा, जिसके परिणामस्वरूप पृथ्वी हिल गई और पूरी सृष्टि को बचाने के लिए, भगवान विष्णु ने अपने सुदर्शन चक्र द्वारा 64 टुकड़ों में सती की लाश को काट दिया।